Skip to content

माँ का प्यार सच्ची हिंदी कहानी | Mother’s Love True Heart Touching Hindi Story

Posted in Hindi Stories, मार्मिक, and सेल्फ डेवलपमेंट | Self Development in Hindi

माँ का प्यार सच्ची हिंदी कहानी | Mother's Love True Heart Touching Hindi Story Motivational Blog
माँ का प्यार सच्ची हिंदी कहानी

माँ का प्यार सच्ची हिंदी कहानी | Mother’s Love True Heart Touching Hindi Story | माँ का प्यार और ममता की कहानी | A Mother’s Love Hindi Story | Maa Ka Pyar Hindi Kahani | Emotional Story in Hindi on Mother’s Day

माँ का प्यार सच्ची हिंदी कहानी

माँ का प्यार और ममता की कहानी

एक बार की बात है, एक छोटा लड़का था जो अपनी माँ के साथ रहता था। वे लोग बहुत ही गरीब थे। लड़का बहुत सुंदर था और बेहद चालाक भी। जैसे-जैसे वह बड़ा होता गया, वह और अधिक सुन्दर और चालाक बनता गया। जबकि उसकी माँ शुरू से ही हमेशा उदास रहती थी।

एक बार, लड़के ने अपनी माँ से पूछा, “माँ, तुम हमेशा उदास क्यों रहती हो?” माँ ने जवाब दिया, “बेटा, एक ज्योतिषी ने मुझसे कहा था कि जिसके भी दाँत तुम्हारे जैसे होंगे वह बहुत प्रसिद्ध होगा।” इस बात पर लड़के ने अपनी माँ (mother) से पूछा, “माँ यह तो खुश होने वाली बात है। क्या आपको यह अच्छा नहीं लगेगा अगर मैं आगे चलकर प्रसिद्ध हो जाऊंगा?”

You can also read : योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय

ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमां कहते हैं, इस जहां में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते हैं।

“अरे मेरे बेटे! यदि किसी माँ (mother) का बेटा प्रसिद्ध हो, तो किस तरह की माँ उसे पसंद (like) नहीं करेगी? मैं तो उदास इस बात से रहती हूँ कि तू प्रसिद्ध होने के बाद मुझे भूल जायेगा।”

अपनी माँ की यह बात सुनकर वह लड़का रोने लगा। वह अपनी माँ के सामने थोड़ी ही दूरी पर खड़ा था। कुछ देर कुछ सोचने के बाद वह अपने घर से बाहर की तरफ भागा। उसने बाहर से एक पत्थर का टुकड़ा उठाया और अपने सामने के दो दाँतों को तोड़ दिया। उसके मुँह से खून (blood) बहना शुरू हो गया।

You can also read : स्वामी विवेकानंद के प्रेरणादायक अनमोल विचार

कौन सी है वो चीज जो यहाँ नहीं मिलती,
सब कुछ मिल जाता है लेकिन “माँ” नहीं मिलती,
माँ-बाप ऐसे होते हैं दोस्तों जो ज़िन्दगी में फिर नहीं मिलते,
खुश रखा करो उनको फिर देखो जन्नत कहाँ नहीं मिलती!!

उसकी माँ (mother) बाहर निकल कर आई और वह यह देखकर चौंक गई कि उसने यह क्या किया। उसने पूछा, “बेटा! तुमने क्या किया? “जवाब में, लड़के ने अपनी माँ के हाथों को पकड़ लिया और कहा,”माँ, यदि ये दाँत आपको दर्द और आपको दुखी करते हैं, तो मैं उन्हें नहीं चाहता। उनका मेरे लिए कोई फायदा नहीं हैं। मैं इन दाँतों से प्रसिद्ध (famous) नहीं होना चाहता हूँ, मैं तो आपकी सेवा करके और आपके आशीर्वाद के जरिए मशहूर होना चाहता हूँ … ”

मेरे मित्र, यह लड़का कोई और नहीं बल्कि इस संसार का सबसे बड़ा राजनीतिज्ञ और कूटनीतिज्ञ महान चाणक्य (Great Chanakya) था।

You can also read : बेस्ट व्हाट्सप्प स्टेटस हिंदी

जिस बेटे के पहली बार बोलने पर खुशी से चिल्ला उठी थी जो ‎माँ‬, आज उसी बेटे की एक आवाज पर खामोश हो जाती है … वो माँ।

Related Post

loading...

6 Comments

  1. बढिया कहानी।

    September 25, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद ज्योति मैम। 🙂

      September 25, 2017
      |Reply
  2. इस पोस्ट की जितनी तारीफ करू कम है क्यूकि इसे पढ़ कर मै बिल्कुल भी बोर नही हुआ शुरु से अंत तक मजे से पढ़ा

    और writting skills कमाल की है उम्मीद है ऐसी ही पोस्ट मुझे आगे भी मिलेंगी।

    September 26, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      सुधीर जी ब्लॉग पर आने व अपना विचार रखने के लिए सादर आभार। प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। 🙂

      September 26, 2017
      |Reply
  3. DS
    DS

    sahi me maa se badkar koi nahi… 🙂

    October 13, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      बिलकुल सही कहा आपने, “माँ से बढ़कर कोई नहीं।” Thanks @DS

      October 14, 2017
      |Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!




HindIndia