Skip to content

मंद बुद्धि से महान वैज्ञानिक : थॉमस अल्वा एडिसन | Real Life Inspirational Success Story of Thomas Alva Edison in Hindi

Posted in Inspiring People, Motivational Stories, सफलता की कहानियां | Success Stories in Hindi, and हिंदी कहानियां | Best Hindi Stories

Best True Real Life Inspirational Success Story of Great Scientist Thomas Alva Edison in Hindi HindIndia Wallpaper Images
Real Life Story of “Thomas Alva Edison”

इलेक्ट्रिक बल्ब (Electric Bulb) का अविष्कार थॉमस अल्वा एडिसन ने किया था, जिससे सारा जगत रात के अँधेरे में भी प्रकाशमान रहता है। कहते हैं, कि बचपन में थॉमस अल्वा एडिसन (Thomas Alva Edison) को मंद बुद्धि कहा जाता था लेकिन बाद में उन्होंने अपनी मेहनत की बदौलत ऐसा नाम और मुकाम हासिल किया जिसकी चाह हर परिश्रमी व्यक्ति को होती है।

बताया जाता है कि एडिसन (Thomas Alva Edison) को अपने काम से इतना लगाव हो गया था कि वे अधिकांशतः अपना समय प्रयोगशाला में ही बिताते थे। और इसका परिणाम ये निकला कि बल्ब के साथ-साथ एडिसन ने और भी सैकड़ों अविष्कार (Invention) इस दुनिया को गिफ्ट किये।

आज हम आपको इस महान वैज्ञानिक (great scientist) के सफलता का राज (secret of success) बताएँगे। कहते हैं हर कामयाब इंसान के पीछे एक औरत का हाथ होता है। ये कहावत एडिसन के ऊपर भी सटीक बैठती है। और वो औरत कोई और नही बल्कि एडिसन की माँ थीं।

ऊपर जिसका अंत नहीं उसे आसमान कहते हैं,
इस जहां में जिसका अंत नहीं उसे ‘माँ’ कहते हैं।

You can also read : सुविचार, अनमोल वचन

मंद बुद्धि से महान वैज्ञानिक : थॉमस अल्वा एडिसन । मंद बुद्धि से महान वैज्ञानिक कैसे बन गए “थॉमस अल्वा एडिसन” । True and Real Life Inspirational Success Story of Great Scientist Thomas Alva Edison in Hindi

तो आईये आज हम जानते हैं Thomas Alva Edison (थॉमस अल्वा एडिसन) के सफलता का राज –

Thomas Alva Edison (थॉमस अल्वा एडिसन) Primary School में पढ़ते थे। एक दिन घर आये और अपनी मां को एक कागज देकर कहा – “यह Teacher ने दिया है”, कागज पढ़ कर मां की आंखों में आंसू आ गए। Edison ने अपनी माँ से पूछा – “इसमें क्या लिखा है माँ?” आंसू पोंछकर मां ने कहा – “इसमें लिखा है कि आपका बेटा बहुत होशियार (Genius) है, हमारा School low level का है, और Teacher भी बहुत Trained नहीं है, इसलिए हम इसे नहीं पढा सकते। इसे अब आप स्वयं शिक्षा दें।” कई वर्षों बाद मां गुजर गई, तब तक Edison famous Scientist (प्रसिद्ध वैज्ञानिक) बन चुके थे और उन्होंने फोनोग्राफ और इलेक्ट्रिक बल्ब Electric Bulb जैसे कई महान अविष्कार कर लिए थे।

You can also read : धन, सफलता और प्रेम

एक दिन फुर्सत के क्षणों में वह अपने पुरानी यादगार वस्तुओं को देख रहे थे। तभी उन्होंने आलमारी के एक कोने में एक पुराना खत देखा और उत्सुकतावश उसे खोलकर देखा और पढा। यह वही खत था जो बचपन में एडिसन के शिक्षक (teacher) ने उन्हें दिया था। उसमें लिखा था आपका बच्चा mentally weak (बौद्धिक तौर पर काफी कमजोर) है उसे अब school ना भेजें। Edison कई घंटों तक रोते रहे और फिर अपनी diary में लिखा – “एक महान मां ने mentally weak (बौद्धिक तौर पर काफी कमजोर) बच्चे को सदी का great scientist (महान वैज्ञानिक) बना दिया यही positive parents की real power है।”

एक झलक | Quick Facts

यही सकारात्मकता माता-पिता की शक्ति है।

You can also read : सबसे कीमती चीज

Related Post

30 Comments

  1. Supriya Pandey
    Supriya Pandey

    From this motivational story it is again proved that Mother is the First Teacher of all living being.
    A human is what he/she has learned from his/her mother firstly then from Father and then Teacher.
    Love u mom to be with me always.

    October 24, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Yeah ….. @Supriya Ji … I am totally agree with your views. 🙂

      October 24, 2016
      |Reply
  2. Supriya Pandey
    Supriya Pandey

    Thank you @Author.

    October 24, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Most Welcome … ma’am 🙂 🙂

      October 24, 2016
      |Reply
  3. A great website jaha har kuch sikha ja sakta hai universe ki koi bhi learn ho all available in this website.

    October 24, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      @Satyam Tiwari ji ….. Thank you so much …. for your appreciation!! 🙂 🙂

      October 24, 2016
      |Reply
  4. ऑरेंज थीम तो आँखों को चुभती है. कृपया इसे बदलें.

    October 26, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      “रवि-रतलामी” जी ब्लॉग पर आने व अपने विचार व्यक्त करने के लिए आपको सादर धन्यवाद् एवं आपके सुझाव पे जरूर अमल किया जायेगा। … Thanks a lot for your views. 🙂

      October 26, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Sure …… @Gagan Sharma Ji.

      October 26, 2016
      |Reply
  5. Aapne bahut achhi jankari pradan ki hai. Aapka bahut aabhar aur dhanyawad.

    October 28, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      आपका बहुत-बहुत धन्यवाद … “प्रमोद खर्कवाल” जी।

      October 28, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      बहुत बहुत धन्यवाद …… कविता रावत जी! आपको भी belated दीपावली की कोटि-कोटि शुभकामनाएं एवं बधाईयां। 🙂 🙂

      November 3, 2016
      |Reply
  6. Simply inspiring and impressive life story…

    November 2, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      बहुत बहुत धन्यवाद ………. प्राची वत्स जी!

      November 3, 2016
      |Reply
  7. Bahut hi badhiya Jankari . Thanks for Share

    November 4, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद् राकेश जी। 🙂 🙂

      November 4, 2016
      |Reply
  8. माँ तो बस माँ होती है। अपने बच्चे को कैसे प्रोत्साहित करना है यह उसे अच्छे से पता होता है। सुन्दर प्रस्तुति।

    November 5, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      “ज्योति मैम” बहुत ही बढ़िया एवं बिलकुल सत्य बात कही है आपने, माँ के बारे में। यह सार्वभौमिक सत्य है। … Thanks a lot for your views. 🙂

      November 5, 2016
      |Reply
  9. Thomas Alva Edison, Nicola Tesla , dono ne hi hame bohot hi achambhit kar dene wali invention se rubru karaya.
    they are legends

    November 7, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Bilkul sahi kaha aapne, MD Wasil Ansari Ji. ……… They are real Legends. 🙂

      November 7, 2016
      |Reply
  10. kya khud bat batayi hai aapne mujhe bahut pasand aaya kasam se positive think har bimari aur uljhan ki davai

    November 20, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद, Rupendra Ji.

      November 20, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद, Kavita Ji.

      November 21, 2016
      |Reply
  11. Nice
    Ye jankari hame bahut pasand aaya.
    Dear sir,
    Aap kon sa template use karte hain.

    December 12, 2016
    |Reply
  12. HindIndia
    HindIndia

    धन्यवाद, अजय जी। आपको यह जानकारी पसंद आयी, इसके लिए आपको धन्यवाद।
    मैं अपनी वेबसाइट में unlimited 1.17 name ka template use करता हूँ।

    December 12, 2016
    |Reply
  13. CPM
    CPM

    Great work.

    January 22, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thanks a lot Chandra Prakash Mishra Ji for appreciating us. 🙂 🙂

      January 22, 2017
      |Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!