Skip to content

समस्या और समाधान । Life Problems and Solutions Best Hindi Moral Story

Posted in Moral Stories, and हिंदी कहानियां | Best Hindi Stories

life problems and solutions best hindi moral story hindindia images wallpapers जीवन की समस्याएँ और समाधान
जीवन की समस्याएँ और समाधान

जीवन की समस्याएँ और समाधान । समस्या और समाधान पर हिंदी कहानी । समस्या एवं समाधान पर निबंध । Life Problems and Solutions Best Hindi Moral Story । Life Problems and Solutions in Hindi

एक बार की बात है, एक गाँव में एक फकीर (Saint) आए। लोगों का कहना था कि वह किसी की भी समस्या (Problem) को दूर कर सकते हैं। सभी लोग जल्दी से जल्दी अपनी समस्या (Problem) फकीर को बताकर उसका समाधान (Solution) जानना चाहते थे। नतीजा यह हुआ कि हर कोई बोलने लगा और किसी को कुछ समझ में नहीं आया। अचानक फकीर चिल्लाए, ‘खामोश’। सब चुप हो गए। फकीर ने कहा, “मैं सबकी समस्या (Problem) दूर कर दूंगा। लेकिन एक साथ बोलने के बजाय सब लोग एक-एक कागज पर अपनी समस्या लिख लाएं और मुझे दें।”

एक मनुष्य को कठिनाइयों की जरूरत होती है क्योंकि तभी वह सफलता (Success) का आनंद ले सकता है।

You can also read : दान की महिमा पर पौराणिक कथा

मुश्किलें (Difficulties) केवल बेहतरीन लोगों के हिस्से में आती हैं क्यूंकि वो लोग ही उसे बेहतरीन तरीके से अंजाम देने की ताकत रखते हैं।

You can also read : सबसे कीमती चीज

कुछ ही देर में फकीर के सामने कागजों का ढेर लग गया। फकीर ने कागजों को एक टोकरी में रखा और सबसे गोला बनाकर बैठने को कहा। गोले के बीच में उन्होंने वह टोकरी रख दी।

समस्याओं (the problems) को पार पाना अवसरों (Opportunities) को जीतना है।

You can also read : माता-पिता की सेवा – भगवान की सेवा

तत्पश्चात, फकीर ने एक आदमी की तरफ इशारा करते हुए कहा, – “यहाँ से शुरू करके सब बारी-बारी से आएंगे और एक-एक कागज़ उठा लेंगें।” उन्होंने कहा लेकिन ध्यान रहे किसी को अपना कागज़ नहीं उठाना है। लोग एक-एक कर आए और कागज उठा-उठा कर अपनी-अपनी जगह बैठ गए। फकीर ने कहा, – “अब इस कागज़ में लिखी किसी दूसरे की समस्या (Problem) पढ़ो। अगर चाहो तो मैं तुम्हारी समस्या (Problem) दूर कर दूँगा पर उसके बदले कागज़ पर लिखी समस्या तुम्हारी हो जाएगी। अगर तुम्हें लगता है कि तुम्हारी समस्या बड़ी है तो उसे दूर करवाकर कागज़ पर लिखी दूसरे की छोटी-सी समस्या (Problem) अपना लो। चाहो तो आपस में कागज़ बदल लो। जब यह तय कर लो कि अपनी समस्या के बदले कौन सी समस्या लोगे तब मेरे पास आ जाना।”

बारिश होने पर सभी पक्षी आसरा ढूँढ़ते हैं। लेकिन एक बाज बारिश से बचने के लिए बादलों से ऊपर उड़ता है। समस्याएं तो सभी के सामने आती हैं, लेकिन फर्क इस बात से पड़ता है कि आप उनका सामना कैसे करते हैं।

You can also read : धन, सफलता और प्रेम

लोगों ने जब कागज़ पर लिखी समस्या (Problem) पढ़ी तो वे घबरा गए। लोग एक दूसरे से कागज़ बदल-बदल कर पढ रहे थे और बार-बार उन्हें लगता कि उनकी समस्या तो जैसी है वैसी है, पर इस नई समस्या का सामना वे कैसे कर पाएंगे। कुछ देर में हर किसी को समझ में आ गया कि उनकी समस्या जैसी भी है उनके अपने जीवन का हिस्सा है और वे उसी का सामना कर सकते हैं। एक-एक कर के लोग चुपचाप वहाँ से अपनी-अपनी समस्या (Problem) लेकर चले गये। क्योंकि अब उन्हें यह समझ में आ गया था कि वास्तव में उनकी समस्या का समाधान क्या है और कौन है?

विचार धन है, हिम्मत रास्ता है। कड़ी मेहनत समाधान है।

You can also read : सफलता आपके कदमों में

एक निराशावादी को हर अवसर में कठिनाई दिखाई देती है जबकि एक आशावादी को हर कठिनाई में अवसर दिखाई देता है।

शिक्षा | Moral

मनुष्य परिस्थितियों का दास नहीं, बल्कि वह उनका निर्माता, नियंत्रणकर्ता और स्वामी है।
अतः मनुष्य की किसी भी समस्या का समाधान स्वयं उसी मनुष्य के पास है जिसकी वह समस्या है।
अगर समस्या है तो उसका हल (समाधान) भी अवश्य होगा। इसलिए हमें अपनी समस्या का हल स्वयं पूरे लगन और निष्ठा के साथ ढूढना चाहिए। यही हमारी समस्या का समाधान है और तभी हम उसे दूर भी कर पाएंगे।

विपरीत परस्थितियों में कुछ लोग टूट जाते हैं, तो कुछ लोग लोग रिकॉर्ड तोड़ते हैं।

You can also read : मंद बुद्धि से महान वैज्ञानिक : थॉमस अल्वा एडिसन

Related Post

32 Comments

  1. RADHA
    RADHA

    Nice short story which is reflect in our life. seriously

    December 7, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      जी राधा जी, बिलकुल सही कहा आपने। ……….. समस्याएं हमारे सामने कितने देर टिकती हैं यह हमारी इच्छाशक्ति पर निर्भर करता है। 🙂 🙂

      December 7, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ……. राहुल जी। 🙂 ……… Thanks!!

      December 8, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Aise comment karke hamara utsahvardhan Karne ke liye dhanyawad, Rahul ji!! 🙂 🙂

      December 10, 2016
      |Reply
  2. प्रेरणादायक कहानी। शेयर करने के लिए धन्यावाद

    December 8, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Dhanyawad Jyoti ji!! ☺ ☺

      December 10, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Dhanyawad Niraj ji ☺☺

      December 10, 2016
      |Reply
  3. BAHUT HI ACHHI HE, AEKBAR MERA BLOG CHECK KAEKE BATANA KAISE HAI

    December 11, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      जी प्रिया जी, बिलकुल। ब्लॉग पर आने व अपना विचार व्यक्त करने के लिए आपका धन्यवाद।

      December 12, 2016
      |Reply
  4. What a nice story. I think agar aap apni samasya solve krna chahte hai to iske pichh lg jao. Apko iska solution definitely milega.

    December 12, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thanks Achhipost. जैसा कि इस कहानी में भी बताया गया है कि अपनी समस्या का समाधान हम खुद हैं न की कोई और। 🙂

      December 12, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद, संदीप जी

      December 12, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      उत्साहवर्धन के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और आभार ऋषिकेश जी

      December 12, 2016
      |Reply
  5. अगर समस्या है तो उसका हल (समाधान) भी अवश्य होगा। इसलिए हमें अपनी समस्या का हल स्वयं पूरे लगन और निष्ठा के साथ ढूढना चाहिए। यही हमारी समस्या का समाधान है और तभी हम उसे दूर भी कर पाएंगे।

    Ye line sabhi ko follow karni chahiye !!! thanks for sharing dost :

    December 12, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद जाँदैल जी, पोस्ट को इतने ध्यान से पढ़ने के लिए। Thanks!! 🙂 🙂

      December 13, 2016
      |Reply
  6. sm
    sm

    inspirational nice story

    December 14, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thanks “SM“. 🙂

      December 14, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thank you so much Babita Ji.

      December 17, 2016
      |Reply
  7. Nice website to promote Hindi and heart touching stories. Keep up the good work.

    December 16, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद अरुण जी

      December 17, 2016
      |Reply
  8. Aapka lekh jankari se paripurn hai… Very nice article.

    December 17, 2016
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Dhanyawad @Kadamtaal!! 🙂

      December 17, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद संजना जी। 🙂 🙂

      December 17, 2016
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद अमित जी

      December 19, 2016
      |Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!