Skip to content

बादशाह और माली । King and Gardener Short Moral Story in Hindi

Posted in Hindi Stories, and Moral Stories

King and Gardener very short moral hindi story hindindia images wallpaper
बादशाह और माली

बादशाह और माली । बादशाह और माली संक्षिप्त शिक्षाप्रद हिंदी कहानी । King and Gardener Short Moral Story in Hindi

फारस देश का बादशाह (King) नौशेरवाँ अपनी न्यायप्रियता के लिए बहुत प्रसिद्ध हो गया था। वह बहुत दानी भी था। एक दिन वह अपने मन्त्रियों के साथ घूमने निकला। उसने देखा कि एक बगीचे में एक बहुत बूढ़ा माली (Gardener) अखरोट के पेड़ लगा रहा है। बादशाह (King) उस बगीचे में गया। उसने माली से पूछा – ‘तुम यहाँ नौकर हो या यह तुम्हारा ही बगीचा (Garden) है?’

माली – ‘मैं नौकरी नहीं करता। यह बगीचा मेरे ही बाप-दादों का लगाया है।’

You can also read : भगवान के आशीर्वाद

बादशाह – ‘तुम ये अखरोट (Walnut) के पेड़ लगा रहे हो। क्या तुम समझते हो कि इनका फल खाने के लिये तुम जीवित रहोगे?’

अखरोट का पेड़ लगाने के बीस बरस बाद फलता है, यह बात प्रसिद्ध है। बूढ़े माली ने बादशाह की बात सुनकर कहा – ‘मैं अब तक दूसरे के लगाये पेड़ों के बहुत फल खा चुका हूँ। इसलिये मुझे भी दूसरों के लिए पेड़ लगाने चाहिये। अपने फल खाने की आशा से ही पेड़ लगाना तो स्वार्थपरता है।’

बादशाह माली के उत्तर से बहुत प्रसन्न हुआ। उसने उसे पुरस्कार में दो अशर्फियाँ दीं।

You can also read : मंद बुद्धि से महान वैज्ञानिक

शिक्षा | Moral

हमें इस कहानी से यह सीख (Learn) लेनी चाहिए कि हमें हर काम सिर्फ अपने हित में सोच (Thought) के नहीं करनी चाहिए क्योंकि आज तक जीवन में हमें जो भी मिला है वे सारी चीजें सिर्फ हमारे कर्मों का परिणाम नहीं हैं बल्कि उनमे से बहुत सी चीजें हमें दूसरों के द्वारा भी मिली हैं।

अगर हम एक फल (Fruit) की ही बात करें तो हममें से शायद ही कोई ऐसा मिल पाए जो ये कहे कि मैं अपने लगाए हुए पौधे का ही सिर्फ फल खाता हूँ। मुझे तो लगता है इसका उत्तऱ लगभग ना के बराबर होगा। इसलिए हमें काम ऐसा करना चाहिए जिससे पूरे समाज और मानव जाति (Mankind) का कल्याण (Welfare) हो ना कि सिर्फ और सिर्फ अपना। क्योंकि अगर सिर्फ अपने बारे में सब लोग सोचने लगें तो ये दुनिया कहाँ चल पायेगी, है ना सही कहा ना मैंने दोस्तों?

Related Post

32 Comments

    • HindIndia
      HindIndia

      प्रोत्साहन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद कमलेश जी। 🙂

      January 1, 2017
      |Reply
  1. RADHA
    RADHA

    bhot bhot achi story….

    January 2, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद …… राधा जी। 🙂

      January 2, 2017
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thank you so much …. Pramod Ji.

      January 2, 2017
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Dhanyawad ….. Ketan Ji. 🙂 🙂

      January 2, 2017
      |Reply
  2. behtrin story hai.. in the category of motivational

    January 2, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद …. Thanks a lot JeeviKami. 🙂

      January 2, 2017
      |Reply
  3. bahut sundar prastuti
    naye saal kee haardik shubhkaamnayen

    January 2, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद, कविता जी। 🙂 नये साल के शुभ अवसर पर आपको और सभी पाठको को नए साल की कोटि-कोटि शुभकामनायें और बधाईयां। 🙂 🙂

      January 2, 2017
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thank you so much ….. @DesiTechBlog. 🙂 🙂

      January 2, 2017
      |Reply
  4. aapne sahi kaha. hmen kabhi hhi kisi chij par ghamand nahi karna chahiye aur har chij ke liye ahsanmand hona chahiye.

    January 2, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद …….. सुरेंद्र जी। 🙂

      January 2, 2017
      |Reply
  5. NICE STORY ND NICE THINKING…. ND GOOD MASSAGE FOR YIUR READER….
    THX…FOR STROY…
    HAPPY NEW YEAR..😄

    January 3, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Kavita Ji, Thank you so much for these kind words and also for appreciating us 🙂 …… बहुत-बहुत धन्यवाद और आभार।
      आपको भी नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं और बधाइयाँ। 🙂

      January 3, 2017
      |Reply
  6. bahut hin badhiya …awesome article. thanks for sharing with us…and happy new year.

    January 3, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद …. @Exgag. आपको भी नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं और बधाइयाँ। 🙂 🙂

      January 3, 2017
      |Reply
  7. तरूण कुमार
    तरूण कुमार

    अच्छी कहानी

    January 3, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद …. तरुण जी। 🙂 🙂

      January 4, 2017
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और आभार … नितेश जी

      January 4, 2017
      |Reply
  8. आपकी सभी कहानिया वाकई में मुझे बहुत पसंद आती है. मेरे ख्याल से शायद ही कोई एसी कहानी होगी जो मैंने आपके ब्लॉग पर नहीं पढ़ी हो जितना पसंद में इन्टरनेट ब्लॉग को करता हूँ उसके बाद अगर कहानियो की बात की जाये तो आपका ब्लॉग सबसे ऊपर आता है. आपका एक बार फिर से दिल से धन्यवाद. आप इसे ही अछी अछी कहानिया पब्लिश करते रहे.

    January 4, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      देव जी, आपका तहे दिल से बहुत-बहुत धन्यवाद और आभार। आपने इतने प्यारे शब्दों का मेरे लिए जो प्रयोग किया है तथा इतना सारा मुझे और मेरे ब्लॉग को प्यार देने के लिए कोटि-कोटि आभार। और आगे भी मैं यही आशा करता हूँ कि आपको और HindIndia के सभी readers को ढेर सारी प्रेरणादायक (Motivational) और शिक्षाप्रद (Moral) कहानियां मिलती रहेंगी।
      At last, I want to say you that Thank you so much!! 🙂 🙂

      January 4, 2017
      |Reply
  9. Nice hindi story……..

    January 6, 2017
    |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      धन्यवाद राकेश जी। 🙂 🙂

      January 6, 2017
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Dhanyawad … Shubhansh.

      January 9, 2017
      |Reply
    • HindIndia
      HindIndia

      Thanks Pradyot ji!! 🙂 🙂

      February 16, 2017
      |Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Subscribe For Latest Updates

Signup for our newsletter and get notified when we publish new articles for free!